आपला विदर्भगुन्हेवृत्तगोंदियाताज्या घडामोडी

अदालत की अवज्ञा मामले में वकील साहब को हो गई जेल

गोंदिया / धनराज भगत

गोंदिया : जिला अदालत में सुनवाई के दौरान मा. मुख्य न्यायाधीश और निजी वकील के बीच नोकझोंक हो गई। मा.न्यायाधीश ने वकील को न्यायालय की अवमानना ​​मामले में 90 रुपये का जुर्माना भरने को कहा। लेकीन, जब उन्होंने जुर्माना देने से इनकार कर दिया, तो वकील को बन्दीगृह भेज दिया गया।

यह घटना सोमवार (ता.5) दोपहर करीब 12.55 बजे की है। वकील को पांच दिन बंदीगृह में बिताने होंगे। दोषी निजी वकील का नाम अँड पराग तिवारी है। मुख्य न्यायदण्डाधिकारी न्यायमूर्ती ए. व्ही.कुलकर्णी की अदालत में सोमवार को एक मामले पर सुनवाई हुई। पक्षकार के वकील तिवारी थोड़ी देर से कोर्ट पहुंचे। इसलिए मुख्य न्यायदण्डाधिकारी कुलकर्णी ने सीधे तौर पर पक्षकार को वकील बुलाने की सलाह दी।  इसपर न्या. कुलकर्णी और वकील तिवारी के बीच नोकझोंक भी हुई । न्या. ए.व्ही.कुलकर्णी इन्होंने अदालत की अवमानना ​​का मामले में अँड तिवारी को 90 रुपये जुर्माना या पांच दिन की सजा सुनाई गई। लेकिन अँड तिवारी ने जुर्माना भरने से इनकार कर दिया और उन्हें तुरंत बंदीगृह भेज दिया गया।

error: Content is protected !!