ग्रापं सदस्य गायकवाड़ ने वरिष्ठ अधिकारियों से की शिकायत

0
6
1

बीजेपार के ग्रामसेवक की जांच करें

सालेकसा / मायकल मेश्राम

सालेकसा; सालेकसा पंस अंतर्गत बीजेपार ग्रापं के सचिव ए. जी. सिरसाम द्वारा 4 वर्ष के कार्यकाल के दौरान बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार कर ग्रापं सदस्यों व नागरिकों को गुमराह किया गया है. विशेष रूप से 15वें वित्त आयोग व सामान्य फंड की निधि में बड़े पैमाने पर हेराफेरी की गई हैं. नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के लिए शासन की ओर से बड़ी मात्रा में विकास के लिए निधि उपलब्ध कराई जाती है, किंतु निधि का उपयोग जनहित में नहीं करते हुए कार्यों को केवल कागजों पर दिखाकर ग्रामीणों को गुमराह किया जा रहा है.
ग्राम पंचायत स्तर पर अलग-अलग बैंकों में 10 से 12 खाते खोले गए हैं. मासिक सभा में ग्रापं सदस्यों को विश्वास में नहीं लेते हुए सदस्यों द्वारा खर्च का विवरण मांगने पर उपलब्ध नहीं कराया जाता. सरपंच व सचिव अपनी मनमर्जी से काम कर रहे हैं. ग्रापं सचिव पर भ्रष्टाचार के आरोप इससे पहले भी लग चुके हैं. कुछ ग्राम पंचायतों में भ्रष्टाचार स्पष्ट भी हुआ, किंतु वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा ध्यान नहीं देने के कारण ग्रामसेवक अभी तक कार्रवाई से बचा है. आरोप ग्रापं सदस्य नरेंद्र गायकवाड़ ने लगाते हुए इसकी शिकायत वरिष्ठ अधिकारियों से भी की है. एक चर्चा में ग्रापं सदस्य ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि यदि शिकायतों के बावजूद बीजेपार ग्रापं सचिव के कार्यों की जांच नहीं की गई तो सालेकसा पंचायत समिति के प्रांगण में अनशन पर बैठ जाएंगे. उन्होंने सभी प्रकार के आरोपों की निष्पक्ष जांच | कर दोषियों पर कार्रवाई करने की मांग की है.

नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी.

बीजेपार ग्राप के सचिव ए.जी. सिरसाम के खिलाफ शिकायत प्राप्त हुई है. जांच का काम जारी है. उन पर लगाए गए आरोप यदि जांच में सिद्ध हो जाते हैं तो निश्चित रूप से नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी.

-डी.एम. खोटेले, गट विकास अधिकारी, पंस सालेकसा